शीर्ष विदेशी मुद्रा ट्रेडिंग किताबें

वित्त और ऋण

वित्त और ऋण
भारत सरकार की ऋण-व्यवस्था के लिए दिशानिर्देश देखने के लिए यहां क्लिक कीजिए

वित्त वर्ष में 15 फीसदी बढ़ेगा बैंक ऋण

क्रिसिल रेंटिंग्स ने मंगलवार को कहा कि भारत में बैंक ऋण वित्त वर्ष 23 और अगले वित्त वर्ष 24 में कॉर्पोरेट मांग में सुधार और ऋणदाताओं की मजबूत बैलेंस शीट के कारण 15 फीसदी बढ़ने की संभावना है। चालू वित्त वर्ष में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में अनुमानित सात फीसदी की वित्त और ऋण वृद्धि के साथ-साथ सरकार के बुनियादी ढांचे को बढ़ावा देने से ऋण वृद्धि को गति प्रदान करने का अनुमान है।

रेटिंग एजेंसी ने एक बयान में कहा कि यह उच्च मुद्रास्फीति के माहौल में उच्च कार्यशील पूंजी की मांग को बताता है और ऋण पूंजी बाजार उधारों के कुछ प्रतिस्थापन को ध्यान में रखता है। मजबूत बैलेंस शीट उधारदाताओं को क्रेडिट का विस्तार करने की गुंजाइश देती है।

क्रिसिल रेंटिंग्स की निदेशक शुभश्री नारायणन ने कहा, ‘इस उच्च ऋण वृद्धि के माहौल में एक महत्वपूर्ण निगरानी यह होगी कि क्या जमा वृद्धि गति बरकरार रह सकती है। पिछले कुछ महीनों में जमा वृद्धि के अलावा ऋण वृद्धि के रुझान में उलटफेर देखा गया है।’

नारायणन ने कहा, ‘बैंकिंग प्रणाली में अधिशेष तरलता सामान्य हो रही है। इसलिए बैंकों को अब और तेज गति से जमा दरें बढ़ानी पड़ सकती हैं, जो हम पहले ही देख रहे हैं। वास्तव में, जमाराशियों के लिए प्रतिस्पर्धा भी तेज होने वाली है, कुछ बैंकों को उच्च-लागत वाली थोक जमाओं का सहारा लेना पड़ सकता है, जो उनके मार्जिन पर प्रभाव डाल सकता है।’

वित्त और ऋण

  • रजिस्टर करें (निःशुल्क)
    (यदि रजिस्टर नहीं किया है तो)
  • लॉग इन करें
    (यदि आप रजिस्टर कर चुके हैं तो)

  • होम
  • एक्ज़िम मित्र
  • निर्यात-आयात की जानकारी
    • निर्यात का पहला कदम
    • वैश्विक उत्पाद बाजार
    • भारत का व्यापारः उत्पाद और बाजार
    • निर्यात क्षमता
    • देशों की रेटिंग (ईसीजीसी)
    • मार्केट ऐक्सेस
    • ढुलाई लागत और ट्रैकर
    • सीमा शुल्क कैलक्यूलेटर
    • शोध और प्रकाशन
      • नवीनतम शोध
      • नीतियां और प्रोत्साहन
        • विमानन
        • ऑटोमोबाइल सेक्टर
        • ऑटो- पुर्जे उद्योग
        • बायोतेक्नोलोजी
        • पूँजीगत माल
        • रासायनिक उद्योग
        • निर्माण क्षेत्र
        • रक्षा विनिर्माण क्षेत्र
        • इलेक्ट्रिकल मशीनरी
        • इलेक्ट्रॉनिक्स
        • खाद्य प्रसंस्करण उद्योग
        • सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) और बिजनेस प्रोसेस प्रबंधन (बीपीएम) उद्योग
        • चमड़ा उद्योग (नीतियां और प्रोत्साहन)
        • मीडिया और मनोरंजन
        • Mining
        • Oil and Gas
        • पेट्रोलियम उत्पाद
        • दवा उद्योग
        • बंदरगाह और पोत परिवहन (शिपिंग) क्षेत्र
        • Railway
        • अक्षय ऊर्जा
        • सड़क और हाईवेज़
        • कपड़ा
        • पर्यटन और आतिथ्य
        • राज्य स्तरीय योजनाएँ
        • Foreign Trade Policy
        • All Relevant Policies
        • ईसीजीसी
        • सीजीटीएमएसई
        • मार्केटिंग सलाहकारी सेवाएं
        • आधारभूत उद्यम विकास (ग्रिड)
        • विदेशी निवेश वित्त
        • ऋण-व्यवस्था
        • क्रेताओं के लिए ऋण (क्रेता ऋण)
        • परियोजना निर्यात
        • राष्ट्रीय निर्यात बीमा खाता (एनईआईए)
        • उपयोगी जानकारी
        • उपयोगी पते की निर्देशिका
        • एक्सपोर्ट लीडिंग इंडेक्स
        • निर्यात आयात एफएक्यू
        • इन्कोटर्म्स
        • लेटर ऑफ क्रेडिट
        • व्यापार की शब्दावली
        • Customs
        • FEMA

        ऋण-व्यवस्था

        एक्ज़िम बैंक, विदेशी वित्त संस्थाओं, क्षेत्रीय विकास बैंकों, संप्रभु सरकारों और अन्य विदेशी इकाइयों को ऋण-व्यवस्थाएं प्रदान करता है, ताकि उन देशों में विकास और इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं अथवा भारत से माल, उपकरण एवं सेवाओं के आयात के लिए वहां खरीदारों को आस्थगित ऋण शर्तों पर वित्त प्रदान किया जा सके। भारतीय निर्यातक शिपिंग दस्तावेज प्रस्तुत कर एक्ज़िम बैंक से पात्र मूल्य का दायित्व रहित भुगतान प्राप्त कर सकते हैं।

        ऋण-व्यवस्थाएं निम्न में मददगार हैं:

        • नए बाज़ारों में प्रवेश
        • वित्तीय सहयोग
        • समेकन (कंसोलिडेशन) और विस्तार (एक्सपेंशन)
        • भारतीय क्षमताओं का प्रदर्शन
        • द्विपक्षीय सहयोग मज़बूत बनाना
        • भागीदारी निर्माण
        • अंतरराष्ट्रीय व्यापार का संवर्द्धन
        • सिनर्जी - साथ मिलकर काम करना
        • विकासात्मक प्रभाव
        • निजी क्षेत्र को अपनी मज़बूती का फायदा उठाने में सक्षम बनाना
        • स्थानीय क्षमता विकास- संबंधित माल और सेवाओं का विस्तार
        • क्लस्टर प्रभाव
        • अलग-अलग बाजारों में पहुंचने का माध्यम
        • भारतीय छाप
        • रोजगार- भारत और विदेशों में
        • निर्यात बढ़ाने के लिए समुचित संबंध
        • भारतीय परियोजना निर्यात क्षमताओं के बेहतर प्रदर्शन में ऋण-व्यवस्थाओं का बड़ा योगदान रहा है
        • इनके माध्यम से 60 से ज्यादा देशों में भारतीय माल एवं सेवाओं का निर्यात किया गया है s
        • अंततराष्ट्रीय समुदाय से द्विपक्षीय सहयोग को ऋण-व्यवस्थाओं ने मजबूत करने का काम किया है
        • www.eximbankindia.in/hi/lines-of-credit-hindi

        भारतीय विकास और आर्थिक सहायता योजना (आइडियाज)

        एक्ज़िम बैंक भारत सरकार की ओर से भारतीय विकास और आर्थिक सहायता योजना (आइडियाज) योजना के अंतर्गत विदेशी सरकारों / विकासशील देशों में उन देशों की सरकारों की नामित एजेंसियों को भारतीय कंपनियों से संविदा वाले माल, सिविल कार्य, परामर्शी-गैर परामर्शी सेवाओं वाली परियोजनाओं के लिए रियायती दरों पर ऋण सुविधाएं प्रदान करता रहता है। भारत सरकार ने इन परियोजनाओं की बिडिंग, प्रोक्योरमेंट और टेंडर प्रक्रिया के लिए कुछ नियम निर्धारित किए हैं। ऐसी परियोजनाएं निम्नलिखित बड़े क्षेत्रों के अंतर्गत आती हैं:

        • कृषि (फसल सुधार, रिसर्च स्टेशन, ट्रैक्टरों की आपूर्ति और खेतों के उपकरणों सहित)
        • सूचना प्रौद्योगिकी अथवा टेलीकॉम इंफ्रास्ट्रक्चर (आईटी पार्क/सेंटर/ माइक्रोवेव लिंक, वी-सैट टर्मिनल, ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क)
        • सिविल निर्माण (आवास, अस्पताल आदि सहित)
        • मत्स्यपालन (पिसिकल्चर, कोल्ड स्टोरेज सहित)
        • औद्योगिक परियोजनाएं (चीनी, सीमेंट, खाद्य प्रसंस्करण, टेक्सटाइल, ऑटोमोटिव आदि)
        • सिंचाई (माइक्रो/डिप सिंचाई, नहर आदि सहित)
        • खनन और खनन उपकरण
        • बिजली उत्पादन (थर्मल,)
        • ग्रामीण विद्युतीकरण सहित बिजली ट्रांसमिशन और वितरण
        • रेलवे (ट्रैक बिछाने, रूट निर्माण, सिग्नलिंग, लोकोमोटिव और रॉलिंग स्टॉक सहित)
        • पुनर्नवीकृत ऊर्जा (सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा और बायो-गैस)
        • सड़कें और हाईवे
        • वाहनों की आपूर्ति (ट्रक, बस और अन्य वाणिज्यिक वाहनों सहित)
        • पानी और स्वच्छता (वाटर ट्रीटमेंट और प्यूरीफिकेशन, स्टोरेज और वितरण सहित)
        • सॉफ्टवेयर विकास जैसी सेवाएं

        ऋण व्यवस्था संविदा प्रक्रिया निम्नलिखित है:

        भारत सरकार की ऋण-व्यवस्था के लिए दिशानिर्देश देखने के लिए यहां क्लिक कीजिए

        सावधि वित्त

        कृपया यह विवरण भरें, ताकि हम आपको वापस कॉल कर सकें और आपकी सहायता कर सकें.

        Thank you [Name] for showing interest in Bank of Baroda. Your details has been recorded and our executive will contact you soon.

        व्यक्तियों के लिए शेयरों के एवज में अग्रिम

        Baroda Covid Emergency Credit Line

        बॉब गारंटीड इमरजेंसी क्रेडिट लाइन योजना (बीजीईसीएलएस)

        विधेयक वित्त

        ब्रिज ऋण / अनुपूरक ऋण

        निर्यात वित्तद

        एफ़सीएनआर(बी) ऋण

        इन्फ्रास्ट्रक्चर फाइनेंस

        लाइन ऑफ़ क्रेडिट

        किराया प्राप्तियों के एवज़ में ऋण

        गैर निधि आधारित सेवाएं

        परियोजना वित्त

        खातों का अधिग्रहण

        कार्यशील पूंजी वित्तपोषण

        स्ट्रेटेजिक ग्राहकों के लिए पूर्व-स्वीकृत विनिर्माण और खनन उपकरण (सीएमई) ऋण सीमाएं

        शाखाएं

        हमारे बारे में
        शेयरधारक कॉर्नर
        ग्राहक खंड
        मीडिया सेंटर
        कैलकुलेटर
        संसाधन
        अन्य लिंक
        हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें

        Thank you ! We have received your subscription request.

        हमारे साथ जुड़ें
        बैंक ऑफ बड़ौदा ग्रुप

        वेबसाइटों का समूह

        • बॉब वित्तीय सॉल्यूशंस लिमिटेड
        • बॉब कैपिटल मार्केट्स लिमिटेड
        • नैनीताल बैंक लिमिटेड
        • इंडिया फर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड
        • इंडिया इंफ्रा डेब्ट लिमिटेड
        • बड़ौदा बीएनपी परिबास म्यूचुअल फंड
        • बड़ौदा ग्लोबल शेयर्ड सर्विसेज लिमिटेड
        • बड़ौदा उत्तर प्रदेश ग्रामीण बैंक
        • बड़ौदा राजस्थान ग्रामीण बैंक
        • बड़ौदा गुजरात ग्रामीण बैंक

        विदेशी शाखाएं

        कॉपीराइट © 2022 बैंक ऑफ बड़ौदा. सर्वाधिकार सुरक्षित

        इस प्रक्रिया में आपके पास निम्नलिखित का होना आवश्यक है

        • पैन कार्ड
        • आधार कार्ड
        • आधार संख्या के साथ पंजीकृत परिचालनगत मोबाइल नंबर
        • वैध ई मेल आईडी
        • इंटरनेट, कैमरा/वेबकैम और माइक्रोफ़ोन से वित्त और ऋण इनेबल मोबाइल/डिवाइस
        • खाता खोलने के लिए प्रयोग में लाए गए डिवाइस का ब्राउज़र लोकेशन इनेबल करें. (सेटिंग >> सर्च सेटिंग में लोकेशन टाइप करें >> साइट सेटिंग >> लोकेशन >> अनुमति प्रदान करें) और संकेत मिलने पर अनुमति प्रदान करें.
        • यह खाता 18 वर्ष व इससे अधिक आयु के निवासी भारतीय व्यक्तियों (जिनका कोई राजनीतिक एक्सपोजर नहीं) हो द्वारा खोला जा सकता है.
        • यह सुविधा वैसे ग्राहकों के लिए है जिनका बैंक में कोई खाता नहीं है
        • आपको अच्छे नेटवर्क तथा प्रकाशयुक्त क्षेत्र में होना चाहिए

        क्या आप इस प्रक्रिया को आगे बढ़ाना चाहते हैं

        Pension Saarthi

        You are being redirected to the Pension Saarthi web portal

        Do you want to proceed ?

        Add this website to home screen

        Are you Bank of Baroda Customer?

        This is to inform you that by clicking on continue, you will be leaving our website and entering the website/Microsite operated by Insurance tie up partner. This link is provided on our Bank’s website for customer convenience and Bank of Baroda does not own or control of this website, and is not responsible for its contents. The Website/Microsite is fully owned & Maintained by Insurance tie up partner.

        The use of वित्त और ऋण any of the Insurance’s tie up partners website is subject to the terms of use and other terms and guidelines, if any, contained within tie up partners website.

        Thank you for visiting www.bankofbaroda.in

        We use cookies (and similar tools) to enhance your experience on our website. To learn more on our cookie policy, Privacy Policy and Terms & Conditions please click here. By continuing to browse this website, you consent to our use of cookies and agree to the Privacy Policy and Terms & Conditions.

        वित्तीय उत्पाद क्रेता ऋण

        क्रेता ऋण यानी खरीदारों के लिए वित्त और ऋण कर्ज| यह हमारी अनूठी ऋण सुविधा है जो भारतीय निर्यातकों को कारोबार की अपार संभावनाओं वाली नई दुनिया में कदम रखने को प्रोत्साहित करती है| दरअसल, यह ऐसी सुविधा है जिसके जरिए विदेशी खरीदार भारतीय निर्यातक के पक्ष में एक एल सी (साखपत्र) खोल सकता है और भारत से माल एवं सेवाएं आस्थगित भुगतान (एक निश्चित समयसीमा में कभी भी भुगतान) शर्तों पर आयात कर सकता है| यह साखपत्र एक तरह की गारंटी है कि खरीदार ने कोई चूक की भी तो निर्यातक को उसका पैसा बैंक देगा|

        निर्यातक को इससे दो फायदे हैं| एक तो अंतरराष्ट्रीय व्यापार में लेन-देन के लिए उसकी संव्यवहार लागत घटती है और उसकी जटिलताएं भी कम हो जाती हैं| दूसरा, भारतीय निर्यातक को अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रतिस्पर्द्धा का मौका मिलता है और वह कारोबार बढ़ाने के लिए अपनी कार्यशील पूंजी का अच्छा इस्तेमाल कर सकता है| यदि भारतीय कंपनियां अपने आयात के वित्तपोषण के लिए क्रेता ऋण चाहती हैं तो वे दूसरी अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थाओं से प्रतिस्पर्द्धात्मक लाइबोर दरों पर इसका लाभ उठा सकती हैं| हम जो क्रेता ऋण देते हैं वह सिर्फ भारतीय माल और सेवाओं के निर्यात के लिए ही इस्तेमाल किया जा सकता है|

        मुख्य बातें

        विदेशी खरीदारों को भारत से माल आयात करने के लिए ऋण| लघु एवं मध्यम उद्योगों से निर्यात को सुगम बनाते हैं|

        आस्थगित ऋण भुगतान पर वित्त और ऋण पूंजीगत वस्तुओं या सेवाओं का वित्तपोषण| यानी एक तय समयसीमा के भीतर भुगतान करने की सुविधा|

        आस्थगित ऋण भुगतान को नकदी भुगतान में बदलकर भारतीय निर्यातकों को जोखिम रहित भुगतान मुहैया कराना|

        विदेशी खरीदार की तरफ से भारतीय निर्यातकों को अग्रिम भुगतान की सुविधा|

        यह वित्तपोषण लेन-देन आधारित या ऋण चुकाए जाने के साथ स्वतः बदल जाने वाली या रिन्युएबल लिमिट के रूप में उपलब्ध|

        भारतीय कंपनी की एक से ज्यादा विदेशी सहायक कंपनियों को दिया जा सकता है|

        चूंकि यह गैर साखपत्रीय (एलसी) लेन-देन होता है, इसलिए इसमें साखपत्र शुल्क की भी बचत हो जाती है|

        विदेशी खरीदार को फायदेः

        परियोजनाओं के सुचारू क्रियान्वयन के लिए मध्यम और लंबी अवधि की वित्तपोषण सुविधाएं|

        मेजबान देश में ऊंची ब्याज दरों के मुकाबले प्रतिस्पर्द्धी और आकर्षक ब्याज दरें|

        पात्रताः

        क्रेता ऋण ऐसी विदेशी परियोजना कंपनी को दिया जाता है जो परियोजना के क्रियान्वयन का जिम्मा भारतीय परियोजना निर्यातक को देना चाहती है|

        भारत से निर्यात होने वाली सभी तरह की परियोजनाओं और सेवाओं के लिए ऋण उपलब्ध|

        नई सुविधाओं के विकास, इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार या विस्तार, सार्वजनिक या निजी परियोजनाओं में प्लांट या इमारतों का सर्वेक्षण, वास्तु और परामर्श जैसी पेशेवर सेवाओं के लिए भी ऋण उपलब्ध है|

        एक्ज़िम से
        फायदे

        विदेशी खरीदारों को मध्यम और लंबी अवधि के ऋण लेने में समर्थ बनाता है|

        मेजबान देश की ऊंची ब्याज दरों के मुकाबले प्रतिस्पर्द्धी ब्याज दर|

        भारतीय निर्यातकों को अंतरराष्ट्रीय बाजार में पहुंचने में मदद|

        भारतीय निर्यातक अपनी कार्यशील पूंजी को अपने प्रमुख कारोबार को बढ़ाने में उपयोग कर सकते हैं|

        जरूरी दस्तावेजों की सूची

        भारतीय निर्यातक से वित्त और ऋण भुगतान का अनुरोध पत्र, जिसमें जहां रकम भेजी जानी है उसका विवरण हो|

        शिपिंग दस्तावेज की नॉन-निगोशिएबल प्रतिलिपि|

        निर्यात संविदा मूल्य की प्रतिपूर्ति संबंधी वचन पत्र|

        संवितरण के अंतर्गत कंसाइनमेंट मूल्य की ट्रस्ट रसीद|

        क्रेता ऋण भुगतान सुविधा के तहत पात्र मूल्य के संवितरण और भारतीय निर्यातक को उसके माल या सेवाओं के भुगतान हेतु उधारकर्ता की ओर से प्राधिकार पत्र|

        एन ई आई ए के तहत क्रेता ऋण

        राष्ट्रीय निर्यात बीमा खाता (एन ई आई ए) वाणिज्य मंत्रालय द्वारा स्थापित एक ट्रस्ट है| इसका प्रशासन ईसीजीसी लिमिटेड के जिम्मे है| हम भारत के परियोजना निर्यात को परंपरागत और विकासशील देशों के नए बाजारों में बढ़ावा देने के लिए एन ई आई ए के तहत क्रेता ऋण उपलब्ध कराते हैं, जिन्हें मध्यम और लंबी अवधि के आधार पर आस्थगित ऋण की जरूरत होती है| इस अनूठे वित्तपोषण कार्यक्रम के तहत हम संप्रभु विदेशी सरकारों और सरकारी स्वामित्व वाली संस्थाओं को भारतीय माल एवं सेवाओं के आयात के लिए आस्थगित ऋण शर्तों पर मध्यम तथा लंबी अवधि के लिए ऋण मुहैया कराते हैं|

        प्रक्रियाः

        इस कार्यक्रम के तहत भारतीय परियोजना निर्यातकों को उनकी परियोजना की फंडिंग के लिए जरूरत के अनुसार वित्तीय सहायता दी जाती है| इससे उनकी बैलेंस शीट पर कोई असर नहीं पड़ता है अर्थात् ऋण क्रेता के खाते में प्रदर्शित होता है| इसका फायदा यह होता है कि कंपनी आने वाले व्यावसायिक और राजनीतिक खतरों से निश्चिंत होकर अपनी परियोजना को पूरा करने पर फोकस कर सकती है|

        पात्रता

        एक्ज़िम बैंक भारतीय निर्यातक की जिम्मेदारी के बिना सीधे विदेशी क्रेता को ऋण प्रदान करता है|

        उधारकर्ता विदेशी संप्रभु सरकार या सरकार के स्वामित्व वाली इकाई होनी चाहिए|

        ऋण की राशि सामान्य तौर पर संविदा मूल्य की 85 फीसदी से ज्यादा नहीं होती है|

        विदेशी सरकार के अलावा अन्य उधारकर्ताओं के लिए उस देश की संप्रभु सरकार द्वारा गारंटी|

        ऋण व्यवस्था

        बैंक ऑफ महाराष्ट्र अपने ग्राहकों की आवश्यकताओं को समझता है। परिचालनगत लचीलेपन के लिए अपने ग्राहकों की आवश्यकताओं पर विचार करते हुए, बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने ऋण व्यवस्था की एक नई योजना का शुभारंभ किया है ताकि केवल किसी विशेष सुविधा के अंतर्गत उपलब्ध अधिकतम सीमा के अधीन निधियों के इस्तेमाल को सीमित करने वाली प्रचलित प्रणाली की तुलना में अपनी आवश्यकताओं के अनुसार आसानी से मंजूर विभिन्न कार्यशील पूंजी सुविधाओं के बीच स्विच ओवर करने में ग्राहक सक्षम बन सकें। यह प्रणाली अनिवार्य रूप से मंजूर ऋण व्यवस्था सुविधा के अंतर्गत उनकी ऋण आवश्यकताओं के कुशल प्रबंधन में अनिवार्य रूप से मध्यम/ बड़ी व्यावसायिक इकाइयों को सुविधा प्रदान करेगी। ​

        ऋण व्यवस्था के अंतर्गत, डीए एलसी सुविधाओं और नकदी ऋण (स्टॉक/ बही-ऋण) के लिए अलग सीमा पर विचार करने/ मंजूरी प्रदान करने के स्थान पर, डीए-एलसी सुविधाओं हेतु उप सीमा के साथ नकदी ऋण (स्टॉक एवं बही-ऋण) - सह- डीए एलसी सीमा के लिए एक संयुक्त सीमा को मंजूरी प्रदान की जाती है। एक उत्पाद के रूप में ऋण व्यवस्था बैंकिंग उद्योग में एक अभिनव एवं अद्वितीय पहल है।

        प्रकटन

        अनुपालन

        कर्मचारी कॉर्नर

        वित्तीय समावेशन / प्रधान मंत्री योजना

        महत्वपूर्ण लिंक

        संपर्क में रहो

        बैंक ऑफ महाराष्ट्र हेड ऑफिस वित्त और ऋण
        लोकमंगल, 1501, शिवाजीनगर
        पुणे 411005,
        020 - 25514501 से 12

        महत्‍वपूर्ण

        बैंक ऑफ महाराष्‍ट्र कभी भी फोन कॉल/ई-मेल/एसएमएस के माध्‍यम से किसी भी उद्देश्‍य हेतु बैंक खाते के ब्‍यौरे नहीं मांगता।
        बैंक सभी ग्राहकों से अपील करता है कि ऐसे किसी भी फोन कॉल/ई-मेल/एसएमएस का उत्‍तर न दें, और किसी से भी, किसी भी उद्देश्‍य हेतु अपने बैंक खाते के ब्‍यौरे साझा न करें। किसी से भी अपने डेबिट/क्रेडिट कार्ड का सीवीवी/पिन साझा न करें।

रेटिंग: 4.19
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 579
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *