विदेशी मुद्रा व्यापार युक्तियाँ

म्यूचुअल फंड्स के साथ अपना रिटायरमेंट कैसे प्लान करें?

म्यूचुअल फंड्स के साथ अपना रिटायरमेंट कैसे प्लान करें?
रिटायरमेंट के लिए कितना फंड रहेगा काफी, ऐसे करें पता। (एक्सप्रेस इलेस्ट्रेशन)

Best Saving Plan: क्यों माना जाता है NPS को बेस्ट सेविंग प्लान, निवेश से पहले इन बातों को जरूर जानें

NPS Best Saving Plan: इस योजना के तहत कोई भी 18 से 65 साल का व्यक्ति अपना खाता खुलवा सकता है. इस बात का जरूर ध्यान रखिए कि यहां जल्दी निवेश से ही मिलता है मोटा फायदा. जानिए वजह.

By: ABP Live | Updated at : 21 Nov 2021 12:48 PM (IST)

NPS Best Saving Plan: रिटायरमेंट की उम्र ऐसी होती है जब काम धंधा कमजोर हो जाता है और नियमित पैसे का स्रोत हो तो उससे अच्छा कुछ नहीं है. यही सोचकर देश में नेशनल पेंशन योजना (NPS) की शुरुआत की गई है. इसे रिटायरमेंट के लिहाज से बेस्ट स्कीम मानी जाता है. महंगाई को देखते हुए जब व्यक्ति इसमें लंबी अवधि तक निवेश करता है तो रिटायरमेंट में इतनी रकम मिल ही जाती है जिससे बुढ़ापा सुखमय गुजर सके.

NPS में निवेश करने से पहले की कुछ महत्वपूर्ण बातें.

केंद्र सरकार ने साल 2004 में NPS को पहले तो सरकारी कर्मचारियों लिए शुरू किया था लेकिन बाद म्यूचुअल फंड्स के साथ अपना रिटायरमेंट कैसे प्लान करें? में 2009 में आम जनता को भी इसमें निवेश की आजादी दी गई. इसकी सबसे खास बात ये है कि आप रिटायरमेंट तक इसमें निवेश करते हैं. ऐसे में यह काफी डिसिप्लिन्ड रहता है. यह एक ऐसा फंड है जिसमें आप थोड़ी-थोड़ी रकम निवेश करते जाते हैं लेकिन रिटायरमेंट तक ये फंड बहुत ज्यादा हो जाता है. निवेश की शुरुआत जितना पहले करेंगे, फायदा उतना ज्यादा होगा. इसे उदाहरण से समझने की कोशिश करते हैं.

जल्दी निवेश से मोटा फायदा

News Reels

मान लीजिए कि किसी व्यक्ति ने 25 साल की उम्र में NPS खाता खुलवाया है और हर महीने 1000 रुपए जमा करता है. NPS ट्रस्ट कैलकुलेटर के मुताबिक, अगर वह 10 फीसदी का रिटर्न पाता है और एन्युनिटी के तौर पर फंड का 40 फीसदी रखता है तो 60 साल के बाद उसका रिटायरमेंट फंड 38.28 लाख रुपए का हो जाएगा. 35 सालों में उसकी तरफ से कुल 4.2 लाख रुपए जमा किए जाएंगे. 40 फीसदी एन्युनिटी रखने पर 60 म्यूचुअल फंड्स के साथ अपना रिटायरमेंट कैसे प्लान करें? साल की उम्र में उसे करीब 23 लाख रुपए एक साथ मिलेंगे. साथ ही 7657 रुपए पेंशन भी मिलेगी.

तुरंत शुरू करें निवेश

NPS में यह बहुत महत्वपूर्ण होता है कि आप कितना जल्दी निवेश की शुरुआत करते हैं. मान लीजिए कि कोई 35 साल की उम्र में निवेश की शुरुआत करता है तो उसका कुल रिटायरमेंट फंड महज 13.37 लाख रुपए का होगा. 25 सालों में वह कुल 3 लाख रुपए जमा करेगा. रिटायरमेंट पर उसे 8 लाख के करीब एकमुश्त मिलेंगे और मंथली पेंशन 2676 रुपए होगी. इससे साफ पता चलता है कि NPS रिटायरमेंट के लिए शानदार स्कीम है लेकिन फायदा जल्दी निवेश करने वालों को ही मिलेगा.

निवेश के नियम

इस स्कीम के लिए पात्रता की बात की जाए तो 18-65 साल का कोई भी भारतीय म्यूचुअल फंड्स के साथ अपना रिटायरमेंट कैसे प्लान करें? म्यूचुअल फंड्स के साथ अपना रिटायरमेंट कैसे प्लान करें? नागरिक खाता खुलवा सकता है. एक व्यक्ति केवल एक ही NPS खाता खोल सकता है. यह ज्वाइंट अकाउंट नहीं हो सकता है.

यहां जमा होता है पैसा

NPS का पैसा इक्विटी, कॉर्पोरेट बॉन्ड, गवर्नमेंट सिक्यॉरिटीज और अल्टरनेटिव इन्वेस्टमेंट में निवेश किया जाता है. एक व्यक्ति इक्विटी में अधिकतम 75 फीसदी निवेश कर सकता है. हालांकि यह केवल 50 वर्ष तक संभव है. उसके बाद इक्विटी में निवेश घटना शुरू हो जाता है.

स्कीम से बाहर निकलने के विकल्प

अगर 60 साल से पहले NPS अकाउंट से एग्जिट करना चाहते हैं तो कुल जमा रकम का अधिकतम 20 फीसदी एकमुश्त निकाला जा सकता है. अगर 60 साल के बाद निकलते हैं तो अधिकतम 60 फीसदी एकमुश्त निकाला जा सकता है. वहीं यदि कोई एनपीएस सब्सक्राइबर 3 साल से ज्यादा निवेश कर रहा है तो वह इस अकाउंट से आंशिक निकासी भी कर सकता है.

इतना देना होगा टैक्स

NPS के Tax फायदों की बात करें तो एक वित्तवर्ष में 2 लाख रुपए तक के निवेश पर डिडक्शन का लाभ मिलेगा. कैपिटल गेन पर किसी तरह का टैक्स नहीं लगता है. एन्युनिटी को आपकी इनकम माना जाता है और उसपर टैक्स लगता है.

ये भी पढ़ें

Published at : 21 Nov 2021 12:48 PM (IST) Tags: Money Investment Modi pension NPS retirement plan हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर म्यूचुअल फंड्स के साथ अपना रिटायरमेंट कैसे प्लान करें? पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: Business News in Hindi

यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान

यूनिट-लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान, जिसे आमतौर पर यूलिप पॉलिसी के रूप में जाना जाता है, निवेश और बीमा कवर का एक पूरा पैकेज है जो धन बढ़ाने में मदद करता है। आमतौर पर, यूलिप पारदर्शी और लचीले होते हैं, जिससे व्यक्ति को आवश्यकता के अनुसार अपनी योजना को अनुकूलित करने की अनुमति मिलती है। यह आपको बीमा कवरेज प्रदान करता है और आपको योग्य निवेश विकल्पों में अपने प्रीमियम का एक हिस्सा निवेश करने की अनुमति देता है म्यूचुअल फंड्स के साथ अपना रिटायरमेंट कैसे प्लान करें? जिसमें स्टॉक, बॉन्ड, म्यूचुअल फंड और बहुत कुछ शामिल हैं। यूलिप इंश्योरेंस में निवेशक अपने निवेश को ऋण से इक्विटी में स्वैप कर सकते हैं और इसके विपरीत स्तंभ से पोस्ट तक चलने या दंडित होने की चिंता किए बिना भी कर सकते हैं।

यूलिप प्लान पहली बार 1971 में यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया द्वारा पेश किए गए थे और तब से इन योजनाओं को भारतीय बीमा बाजार द्वारा सराहा गया है।

आज, अधिक प्रदाताओं ने यूलिप योजनाओं के खेल में टैप किया है और न्यूनतम शुल्क पर नए युग की सुविधाओं के साथ ऐसी योजनाओं की पेशकश करके अपने ग्राहकों की जरूरतों को सफलतापूर्वक पूरा कर रहे हैं। आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल, बजाज लाइफ, एचडीएफसी सहित सभी प्रमुख बीमा कंपनियां भारतीय उपभोक्ताओं को यूलिप प्लान के असंख्य ऑफर करती हैं।

आइए खरीदारी का निर्णय लेने से पहले यूलिप प्लान की विस्तृत जानकारी प्राप्त करें।

यूलिप प्लान का महत्व क्या है?

यूलिप प्लान आपको 18 साल की उम्र में जल्दी निवेश करने की अनुमति देता है। जब कोई पॉलिसीधारक यूलिप प्लान के लिए नियमित प्रीमियम का भुगतान करता है, तो बीमाकर्ता जीवन बीमा कवर के लिए इसके एक हिस्से का उपयोग करता है। शेष राशि का उपयोग विभिन्न ऋण और इक्विटी निवेशों के लिए किया जाता है, इस प्रकार आपके रिटायरमेंट के बाद के जीवन को वित्तीय रूप से समर्थन देने के लिए पर्याप्त धन जमा होता है। ऐसी योजनाओं का सबसे अनिवार्य हिस्सा यह है कि पॉलिसीधारक लॉक-इन अवधि के बाद किसी भी समय पॉलिसी का कार्यकाल निर्धारित कर सकता है और बाहर निकल सकता है। यूलिप रिटायर होने और रिटायरमेंट के बाद जीवन का आनंद लेना शुरू करने का निर्णय लेने की सुविधा प्रदान करता है।

यूलिप प्लान की बेहतर समझ के लिए यहां एक उदाहरण दिया गया है।

30 साल के कमल अपनी पत्नी के साथ यात्रा करने के लिए पर्याप्त धन के साथ 60 साल की उम्र में रिटायर होना चाहते हैं। वह नियमित और संभावित खर्चों जैसे कि घरेलू आवश्यक वस्तुओं, चिकित्सा बिलों, क्षति और मरम्मत आदि के बारे में अच्छी तरह से जानते हैं, इस प्रकार, उन्होंने अनुमान लगाया कि सेवानिवृत्ति के बाद एक स्वतंत्र और आरामदायक जीवन जीने के लिए लगभग 5 करोड़ रुपये की आवश्यकता होनी चाहिए। कमल अब लगभग 15,000 रुपये के मासिक प्रीमियम के साथ यूलिप प्लान का विकल्प चुन सकते हैं। अपनी सेवानिवृत्ति के समय 60 वर्ष की आयु पर, वह अपनी आवश्यकताओं के आधार पर नियमित आय या एकमुश्त के रूप में रिटर्न प्राप्त करने का निर्णय ले सकता है। यूलिप प्लान आपको लाइफ़ कवर सुरक्षा प्रदान करते हुए आपके प्रीमियम को अपनी पसंद के म्यूचुअल फंड्स के साथ अपना रिटायरमेंट कैसे प्लान करें? फ़ंड के प्रकार में निवेश करके काम करते हैं।

यह कैसे काम करता है?

यूनिट-लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान के लिए आपके द्वारा भुगतान किए जाने वाले प्रीमियम का उपयोग धन और जीवन बीमा बनाने के लिए किया जाता है। प्लान के शुरुआती वर्षों में, प्लान के खर्चों के लिए प्रीमियम की एक बड़ी राशि का उपयोग किया जाता है। बाद में, प्रीमियम को दो अलग-अलग खंडों में म्यूचुअल फंड्स के साथ अपना रिटायरमेंट कैसे प्लान करें? विभाजित किया जाता है- निवेश और बीमा।

आपकी पसंद के फंड में निवेश की गई राशि के लिए इकाइयां जारी की जाती हैं; यह ऋण, इक्विटी या दोनों का संयोजन हो सकता है। इकाइयों का आवंटन मूल निधि के प्रदर्शन पर निर्भर करता है। शुरुआती 2 से 3 प्लान वर्षों में, उच्च खर्चों की कटौती के कारण, फंड का मूल्य कम रहेगा। इसके अलावा, मृत्यु दर में भी मासिक रूप से कटौती की जाएगी। यह किसी व्यक्ति को जीवन बीमा प्रदान करने के लिए बीमा राशि है और आपके द्वारा चुने गए फंड मूल्य के रूप में बदल जाएगी। इन फंडों के रखरखाव के लिए, एक राशि जिसे फंड प्रबंधन शुल्क के रूप में संदर्भित किया जाता है, काट लिया जाएगा।

Mutual Fund में हर महीने 20,000 रुपए करें निवेश, 2 लाख रुपए मंथली मिलेगी पेंशन

रामानुज सिंह

हर किसी की इच्छा होती है उसका रिटायरमेंट जीवन सुख से कटे। इसके लिए आप हर महीने एसआईपी करें, दो लाख से ज्यादा पेंशन प्राप्त कर सकते हैं।

Invest Rs 20,000 every month in mutual funds, you will get Rs 2 lakh monthly pension

लोगों की यह चिंता रहती है कि रिटायरमेंट के बाद मंथली इनकम को कैसे सुरक्षित किया जाए। इनकम हर साल महंगाई के अनुरूप बढ़ती रहे। यह संभव हो सकता है अगर आप म्यूचुअल फंड का उपयोग करके उचित निवेश दृष्टिकोण अपनाते हैं। भारत जैसे उभरते बाजार में, इक्विटी म्यूचुअल फंड लंबी अवधि (15 वर्षों से अधिक) में 10-12% सालाना रिटर्न देने की क्षमता रखते हैं। एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर आप एक अनुशासित तरीके से अपना निवेश करते हैं और 30 साल की उम्र से नियमित रूप से निवेश करना शुरू करते हैं तो आप आसानी से रिटायरमेंट के बाद आपको वित्तीय समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा और एक ऐसी आय प्राप्त कर सकते हैं जो आने वाले समय की महंगाई को मात दे सकते हैं। और अपने प्रियजनों लिए एक बड़ी राशि छोड़ सकते हैं।

वर्तमान में, एक औसत रिटायर्ड दंपति को रिटायरमेंट के बाद आराम से जीवन बिताने के लिए प्रति माह करीब 50,000 रुपए की जरुरत होती है, बशर्ते उनके पास अपना घर हो। लेकिन सालाना महंगाई दर 5 फीसदी मानकर यह रकम 30 साल बाद बढ़कर 2.16 लाख रुपए हो जाएगी। साथ ही, आपके रिटायरमेंट के बाद हर साल यह राशि बढ़ती जाएगी।

अगर आप 30 वर्ष की आयु से म्यूचुअल फंड में निवेश करना शुरू करते हैं, तो आप अपने रिटायरमेंट (60 वर्ष की आयु) तक आसानी से एक बड़ा फंड जमा कर सकते हैं जो आपको अगले 25 वर्षों (85 वर्ष की आयु तक या उससे अधिक) के लिए पेंशन प्रदान कर सकता है। साथ ही आप अपनी मृत्यु के बाद अपने कानूनी उत्तराधिकारी के लिए एक मोटी रकम छोड़ सकते हैं।

रिटायरमेंट फंड बनाने के लिए SIP करें

मान लें कि आपकी वर्तमान आयु 30 वर्ष है, और आपका मासिक खर्च 50,000 रुपए है। रिटायरमेंट के बाद भी अपनी वर्तमान जीवनशैली को बनाए रखने के लिए आपको अगले 20 वर्षों के लिए व्यवस्थित निवेश योजना (SIP) के माध्यम से अनेक लार्ज-कैप म्यूचुअल फंड में हर महीने 20,000 रुपए का निवेश करने की आवश्यकता है। अगर आपका एसआईपी निवेश 12% का सालाना रिटर्न उत्पन्न करता है, तो आपका निवेश 20 वर्षों में बढ़कर 10,091,520 रुपए हो जाएगा (जब तक आप 50 वर्ष के हो जाते हैं)। जब आप रिटायर होंगे (60 वर्ष की आयु में) तब तक यह फंड बढ़कर 31,342,729 रुपए हो जाएगा, भले ही आप 50 से 60 वर्ष की आयु के बीच कोई अतिरिक्त निवेश न करें।

मासिक पेंशन पाने के लिए सेवानिवृत्ति के बाद SWP करें

60 साल की उम्र में, आपका मासिक खर्च 5% की सालाना महंगाई दर मानकर 2.16 लाख रुपए हो गया होगा। साथ ही यह मासिक खर्च हर साल बढ़ेगा। इसलिए, हर महीने उपरोक्त राशि को निकालने के लिए इक्विटी म्यूचुअल फंड में एक स्टेप-अप व्यवस्थित निकासी योजना (एसडब्ल्यूपी) स्थापित करें और हर साल निकासी राशि में 5% की वृद्धि करें। आपकी रिटायरमेंट राशि आपको उपर्युक्त मासिक आय प्रदान करने के लिए पर्याप्त होगी।

Mutual Funds Redemption

Mutual Funds Redemption : म्यूचुअल फंड्स में निवेश बंद करवा लिया? अब हो रहा है अफसोस, जानिए क्या करना चाहिए

SIP in Mutual Funds : Want to earn more than Rs 1.50 lakh per month? Know how much you have to invest

SIP in Mutual Funds : Want to earn more than Rs 1.50 lakh per month? Know how much you have to invest

Nivesh tips : Investing in Mutual Funds? Know how to choose right fund

आपके रिटायरमेंट जीवन के दौरान प्रति माह 1% की दर से 12% का अपेक्षित सालाना रिटर्न समान रूप से अर्जित होगा। हालांकि, हकीकत में ऐसा नहीं हो सकता है। कुछ वर्षों में आपकी पूंजी में कमी हो सकती है क्योंकि कुछ वर्षों में आपको 12% से अधिक रिटर्न मिल सकता है, जिससे कि लंबी अवधि में आपका कुल रिटर्न 12% होगा। जो आपकी रिटायरमेंट फंड पर्याप्त है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

कैसे निवेश करें

wikiHow's Content Management Team बहुत ही सावधानी से हमारे एडिटोरियल स्टाफ (editorial staff) द्वारा किये गए कार्य को मॉनिटर करती है ये सुनिश्चित करने के लिए कि सभी आर्टिकल्स में दी गई जानकारी उच्च गुणवत्ता की है कि नहीं।

यहाँ पर 17 रेफरेन्स दिए गए हैं जिन्हे आप आर्टिकल में नीचे देख म्यूचुअल फंड्स के साथ अपना रिटायरमेंट कैसे प्लान करें? सकते हैं।

यह आर्टिकल २,५२९ बार देखा गया है।

यदि आपके पास थोड़ा सा भी धन बचा हुआ है, तो उसका निवेश करके आप उसे और भी बढ़ा सकते हैं। वास्तव में, यदि आपने प्रभावी रूप से पर्याप्त निवेश किया होगा, तो अंत में आप अपने निवेश से होने वाली कमाई और उस पर मिलने वाले ब्याज से अपना जीवन जी सकते हैं। यदि आप नौसिखिया हैं और बाजार को अभी समझ रहे हैं, तो सुरक्षित निवेश जैसे कि, बॉन्ड्स, म्यूचुअल फंड्स और रिटायरमेंट एकाउंट्स, के साथ शुरू करें । जब पर्याप्त धन बना लें, तो आप ज्यादा म्यूचुअल फंड्स के साथ अपना रिटायरमेंट कैसे प्लान करें? जोखिम भरे निवेश, जैसे कि, रियल एस्टेट या कमोडिटीज़ में निवेश कर सकते हैं जिनमें संभावित रिटर्न अपेक्षाकृत ज्यादा होता है।

Mutual Fund SIP : रोज 333 रुपए का निवेश आपके रिटायरमेंट को बना सकता है आसान, जानिए कैसे

लांग टर्म में म्यूचुअल फंड निवेश ने काफी हाई रिटर्न दिया है और वे रिटायरमेंट के बाद आपकी जिंदगी को काफी आसान बना सकते हैं। सेबी ने इन योजनाओं को एक अलग श्रेणी के रूप में नामित किया है ताकि निवेशक व्यवस्थित तरीके से अपनी रिटायरमेंट की योजना को तैयार कर सकें। इन रिटायरमेंट स्‍कीम की अवधि 5 वर्ष या रिटायरमेंट तक है।

Mutual Fund SIP : रोज 333 रुपए का निवेश आपके रिटायरमेंट को बना सकता है आसान, जानिए कैसे

रिटायरमेंट के लिए कितना फंड रहेगा काफी, ऐसे करें पता। (एक्सप्रेस इलेस्ट्रेशन)

म्यूचुअल फंड रिटायरमेंट फंड बनाने के लिए एक शानदार विकल्प हैं क्योंकि वे आपके पैसे को कई तरह के शेयरों, डेट स्टॉक और मनी मार्केट सिक्योरिटीज में निवेश करते हैं। लांग टर्म में म्यूचुअल फंड निवेश ने काफी हाई रिटर्न दिया है और वे रिटायरमेंट के बाद आपकी जिंदगी को काफी आसान बना सकते हैं। सेबी ने इन योजनाओं को एक अलग श्रेणी के रूप में नामित किया है ताकि निवेशक व्यवस्थित तरीके से अपनी रिटायरमेंट की योजना को तैयार कर सकें। इन रिटायरमेंट स्‍कीम की अवधि 5 वर्ष या रिटायरमेंट तक है।

अपने रिटायरमेंट इंवेस्‍टमेंट उद्देश्यों को पूरा करने के लिए निवेशकों को लंबे समय तक शामिल रखने के लिए यह एक प्रभावी रणनीति है। खास बात तो यह है ऐसी स्‍कीम में आपको ज्‍यादा रुपया निवेश करने की भी जरुरत नहीं है। रोज 333 रुपए का निवेश आपको काफी मदद कर सकता है। आइए आपको भी बताते हैं कि आख‍िर ऐसे कौन से रिटायरमेंट फंड हैं, जो आपकी जिंगदी को आसान बनाने में मदद कर सकते हैं।

एचडीएफसी रिटायरमेंट सेविंग्स फंड – इक्विटी प्लान
एचडीएफसी रिटायरमेंट सेविंग्स फंड इक्विटी प्लान डायरेक्ट-ग्रोथ के पास 1,777 करोड़ की प्रबंधन के तहत संपत्ति है, जिससे यह अपनी श्रेणी में एक मीडियम साइज फंड बन गया। फंड का एक्‍सपेंस रेश्‍यो 0.98 फीसदी है, जोकि अधिकांश अन्य मल्टी कैप फंडों द्वारा लगाए गए एक्‍सपेंस रेश्‍यो से अधिक है। एचडीएफसी रिटायरमेंट सेविंग्स फंड इक्विटी प्लान डायरेक्ट-ग्रोथ का पिछले एक साल का रिटर्न 60.08 फीसदी है। इसने अपनी स्थापना के बाद से प्रति वर्ष औसतन 21.44 फीसदी का रिटर्न दिया है। आप इस योजना में लगातार रिटर्न प्राप्त करने के लिए हर महीने 10,000 रुपए की एसआईपी के साथ निवेश शुरू कर सकते हैं। अगर आप 10 हजार रुपए एकमुश्‍त जमा करते हैं तो पांच वर्षों में 22,297 रुपए हो जाएंगे। यानी आपको 12,297 रुपए का लाभ होगा। दिलचस्प बात यह है कि ज्यादातर मामलों में, ये रिटायरमेंट स्‍कीम उन लोगों के लिए हैं जो अपने निवेश के साथ लापरवाह हैं और अपना पैसा नहीं रख सकते हैं। इन म्यूचुअल फंड में 5 साल या रिटायरमेंट का लॉक-इन पीरियड होता है।

साल के आखिरी 25 दिनों में इन 4 राशियों के लोगों की बदल सकती है किस्मत, जानिये कहीं आपकी राशि तो नहीं शामिल

Horoscope 2022: नवंबर माह के बचे हुए 13 दिनों में कुछ खास हो सकता है घटित, जानिए क्या कहता है आपका राशिफल

Diabetes Control Tips: सर्दी में डायबिटीज के मरीजों की शुगर को कंट्रोल करती है विटामिन डी से भरपूर ये सब्जी, जानिए फायदे

एचडीएफसी रिटायरमेंट सेविंग्स फंड – हाइब्रिड इक्विटी प्लान
एचडीएफसी रिटायरमेंट सेविंग्स फंड – हाइब्रिड इक्विटी प्लान डायरेक्ट-ग्रोथ का एयूएम 684 करोड़ रुपए है। फंड का एक्सपेंस रेशियो 1.28 फीसदी है, जो कि ज्यादातर दूसरे एग्रेसिव हाइब्रिड फंड्स द्वारा चार्ज किए गए एक्सपेंस रेशियो से ज्यादा है। फंड में अब 66.08 प्रतिशत स्टॉक एलोकेशन और 15.85 प्रतिशत डेट एलोकेशन है। एचडीएफसी रिटायरमेंट सेविंग्स फंड – हाइब्रिड इक्विटी प्लान डायरेक्ट-ग्रोथ का 1 साल का रिटर्न 42.98 प्रतिशत है। इसकी स्थापना के बाद से इसका औसत वार्षिक रिटर्न 19.13 प्रतिशत रहा है। अगर आप लगातार तीन साल हर महीने 10 हजार रुपए की एसआईपी करते हैं तो आपका कुल निवेश 3.60 रुपए हो जाएगा। साथ ही आपको इस दौरान मिलने वाला ब्‍याज 1.56 लाख रुपए होगा। यानी आपके पास कुल रकम 5.16 लाख रुपए हो जाएगी।

टाटा रिटायरमेंट सेविंग्स प्रोग्रेसिव प्लान
टाटा रिटायरमेंट सेविंग्स फंड प्रोग्रेसिव प्लान डायरेक्ट-ग्रोथ का एयूएम 1,127 करोड़ रुपए है। फंड का एक्‍सपेंस रेश्‍यो 0.68 प्रतिशत है, जो अधिकांश अन्य मल्टी कैप फंडों द्वारा लगाए गए एक्‍सपेंस रेश्‍यो से कम है। इस फंड ने एक साल में 39.79 फीसदी का रिटर्न दिया है। इसकी स्थापना के बाद से इसका औसत वार्षिक रिटर्न 17.02 प्रतिशत रहा है। हर दो साल में फंड ने निवेश को चार गुना कर दि‍या है। अगर आप हर महीने 10 हजार रुपए की एसआईपी करते हैं तो आपका कुल निवेश 6 लाख रुपए होगा और ब्‍याज की रकम 3.35 लाख रुपए के साथ पांच साल में आपको म्यूचुअल फंड्स के साथ अपना रिटायरमेंट कैसे प्लान करें? 9.35 लाख रुपए मिल जाएंगे।

टाटा रिटायरमेंट सेविंग्स मॉडरेट फंड
टाटा रिटायरमेंट सेविंग्स फंड मॉडरेट प्लान डायरेक्ट-ग्रोथ का एयूएम 1,493 करोड़ रुपए का है। फंड का एक्सपेंस रेशियो 0.66 फीसदी है, जो कि ज्यादातर दूसरे एग्रेसिव हाइब्रिड फंड्स द्वारा चार्ज किए गए एक्सपेंस रेशियो से कम है। बीते एक साल में इस फंड ने 34.14 फीसदी का रिटर्न दिया है। इसने अपनी स्थापना के बाद से हर साल औसतन 16.92 प्रतिशत का रिटर्न दिया है। अगर आप महीने में 10 हजार रुपए की एसआईपी करते हैं तो पांच साल के बाद आपको 2.93 लाख रुपए के प्रोफ‍िट के साथ 8.93 लाख रुपए मिलेंगे।

निप्पॉन इंडिया रिटायरमेंट फंड – वेल्थ क्रिएशन स्कीम
निप्पॉन इंडिया रिटायरमेंट फंड – वेल्थ क्रिएशन स्कीम डायरेक्ट-ग्रोथ 2,169 करोड़ का एयूएम है। फंड का एक्‍सपेंस रेश्‍यो 1.15 फीसदी है, जोकि अधिकांश अन्य मल्टी कैप फंडों द्वारा लगाए गए व्यय अनुपात से अधिक है। बीते एक साल में इस फंड ने 48.49 फीसदी का रिटर्न दिया है। इसकी स्थापना के बाद से इसका औसत वार्षिक रिटर्न 9.34 प्रतिशत रहा है। अगर आप हर महीने 10 हजार रुपए का निवेश करते हैं तो पांय साल के बाद प्रिंसीपल अमाउंट 6 लाख रुपए के साथ 2.29 लाख रुपए का प्रोफ‍िट भी मिलेगा।

एक्‍सपर्ट की सलाह से करें निवेश
म्‍यूचुअल फंड बाजार जोखि‍म के अधीन होते हैं, ऐसे में हम आपको किसी म्‍यूचुअल फंड में निवेश करने की सलाह बिल्‍कुल भी नहीं दे रहे हैं। इसके लिए आप किसी एक्‍सपर्ट से सलाह कर सकते हैं, जोकि सेबी से रजिस्‍टर्ड हो, ताकि आपका रुपया सेफ रहे।

रेटिंग: 4.15
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 166
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *