क्रिप्टोक्यूरेंसी में निवेश कैसे करें

इंडिकेटर्स

इंडिकेटर्स

इंडिकेटर्स

Indicators मीनिंग : Meaning of Indicators in Hindi - Definition and Translation

  1. ShabdKhoj
  2. indicators Meaning
  • English to Hindi
  • Definition
  • Similar words
  • Opposite words
  • Sentence Usages

INDICATORS MEANING - NEAR BY WORDS

Usage : Litmus paper can be used as an indication of the presence or not of acid in a solution.
उदाहरण : % s गायब नाम या सूचक

Information provided about indicators:

Indicators meaning in Hindi : Get meaning and translation of Indicators in Hindi language with grammar,antonyms,synonyms and sentence usages by ShabdKhoj. Know answer of question : what is meaning of Indicators in Hindi? Indicators ka matalab hindi me kya hai (Indicators का हिंदी में मतलब ). Indicators meaning in Hindi (हिन्दी मे मीनिंग ) is सूचक.

Tags: Hindi meaning of indicators, indicators meaning in hindi, indicators ka matalab hindi me, indicators translation and definition in Hindi language by ShabdKhoj (From HinKhoj Group).indicators का मतलब (मीनिंग) हिंदी में जाने |

Car Care Tips: सर्दियों में कार को रखना है सही सलामत तो फॉलो करें ये आसान टिप्स, बढ़ जाएगी जिंदगी

Car Care Tips

Car Care Tips: ठंड के मौसम ने इंडिकेटर्स दस्तक दे दी है। ऐसे में इंसान अपना ध्यान रखने के लिए तो गर्म कपड़े, रूम हीटर आदि का सहारा लेता है। ऐसे में आपकी कारों का क्या वो तो अपनी वही पुरानी जगह पार्किंग एरिया में खड़ी रहती हैं। ज्यादा से ज्यादा उनपर एक कवर ढक दिया जाता है। क्या आप जानते हैं कि सर्दियों में कारों का ध्यान रखने के लिए इतना ही काफी नहीं है। सर्दियों के मौसम में आपको अपनी कारों का भी खास ध्यान रखना चाहिए।

आज इस आर्टिकल में हम आपको आपकी कारों का ध्यान रखने के लिए कुछ आसान सी टिप्स के बारे में बताने जा रहे हैं। अगर आप इन टिप्स को फॉलो करते हैं तो आप अपनी कारों की उम्र बढ़ सकते हैं। इंजन ऑयल की जांच करें और बदलें अगर ध्यान नहीं रखते हैं तो आपको उसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।

चेक करें कार की लाइट

सर्दियों में सूर्यास्त जल्दी हो जाता है। ऐसे में कार की रोशनी का इस्तेमाल ज्यादा होता है। इसलिए लाइट्स का खास ख्याल रखना चाहिए। कार की रोशनी जैसे हेडलैंप, टेललाइट, टर्न इंडिकेटर्स और रिवर्स हेडलैंप की लाइट्स को रेगुलर चेक करना कि वे ठीक से काम कर रहे हैं या नहीं। यदि आप देखते हैं कि वे ठीक से काम नहीं कर रहे हैं, तो उन्हें जल्द से जल्द बदल दें।

इंजन ऑयल की करें जांच

ठंड के मौसम में उपयुक्त लाइट इंजन ऑयल का इस्तेमाल करने का सुझाव दिया जाता है। ऐसे में अगर आप इंजन ऑयल या कूलेंट को बिना बदले काफी समय से इस्तेमाल कर रहे हैं तो अब आपको इसे टॉप अप करने के बजाय बदल देना चाहिए। इस बारे में आप वाहन निर्माता के मैनुअल में जानकारी ले सकते हैं।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘DNP INDIA’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Force Gurkha five-door रोड पर नजर आई और वह जल्द ही लॉन्च होने वाली है

Force Gurkha five-door

नए स्पाई शॉट्स बदलावों के मामले में पिछले वाले के अनुरूप हो सकता हैं। पांच दरवाजों वाली फोर्स गोरखा अपने तीन दरवाजों वाले भाई-बहनों के अधिकांश डिजाइन को बरकरार बनाने वाली है, जैसे कि एकीकृत एलईडी डीआरएल के साथ गोल हेडलैंप, बोल्ड गोरखा लेटरिंग के साथ मिलने वाला है,

ग्रिल, फ्रंट फेंडर-माउंटेड टर्न इंडिकेटर्स, एक स्नोर्कल, फॉग लाइट, ब्लैक ओआरवीएम और एक ऊर्ध्वाधर टेललाइट्स सेटअप का नया अपडेट मिलेगा। पांच दरवाजे वाले गोरखा इंडिकेटर्स में अतिरिक्त यात्रियों को समायोजित करने के लिए एक लंबा व्हीलबेस और अधिक आंतरिक स्थान भी मिल जाएगा।

इसके अलावा, रिपब्लिक मोटर द्वारा अपने इंडोनेशियाई भाई Kstaria की तरह इस में भी अपडेट किया गया है, पांच दरवाजों वाले गोरखा में मध्य पंक्ति के लिए दो कप्तान सीटों के साथ-साथ केबिन के अंदर अधिक एसी वेंट के साथ छह-सीट कॉन्फ़िगरेशन मिलने की संभावना है।

एक्सटीरियर में क्या नया है?

Force Gurkha five-door

भारी बोनट के अंदर, यह उसी मर्सिडीज-व्युत्पन्न 2.6-लीटर डीजल इंजन द्वारा संचालित होने की संभावना है जो 90bhp और 250Nm का टार्क पावर पैदा करने की क्षमता रखता है। ट्रांसमिशन विकल्प सबसे अधिक संभावना पांच-स्पीड मैनुअल गियर बॉक्स यूनिट तक सीमित हो सकता है।

हम अभी भी भारतीय वाहन निर्माता की आधिकारिक घोषणा की प्रतीक्षा कर रहे हैं। लेकिन हम उम्मीद कर सकते हैं कि यह आगामी गोरखा को 2023 ऑटो एक्सपो के समय आपने गोरखा को पेश कर सकते हैं।

Force Gurkha five-door

जबकि इसके अंदर मुख्य 5 दरवाजे मिल जाएंगे जोकि Mahindra Thar और बहुप्रतीक्षित Maruti Suzuki Jimny जैसा हो सकता है, लेकिन तीन में से, ऐसा प्रतीत होता है कि पांच दरवाजों वाली फोर्स गोरखा पहले बाजार में उतरेगी या नहीं।

  • यह गोरखा, उतना ही पारिवारिक टूरर का है,
  • जितना कि सज्जन ऑफ-रोडर का लेकिन अब केवल वैरागी या विद्रोहियों के लिए आरक्षित नहीं है।
  • यह अपनी बाहों और 5 दरवाजों को उन सभी के लिए खोल देता है जो इसकी सराहना कर सकते हैं कि यह वास्तव इसको अपडेट किया गया है।

Force Gurkha five-door FAQ

क्या फोर्स गुरखा 5 सीटर है?

फोर्स गोरखा एक 4 सीटर एसयूवी है जिसकी कीमत Rs. 14.75 लाख*. यह 1 वेरिएंट में उपलब्ध है, एक 2596 सीसी, और बीएस6 और एक मैनुअल ट्रांसमिशन मैं मिल जाती है। गुरखा के अन्य प्रमुख स्पेसिफिकेशन में का कर्ब वेट, का ग्राउंड क्लीयरेंस और 500 liters का बूटस्पेस शामिल है।

आईएस फोर्स गुरखा 7 Seater?

सबसे लोकप्रिय फोर्स 7 सीटर कार फोर्स गोरखा है। गोरखा का बेस वेरिएंट भारत में एक बार नया मॉडल अपडेट होकर उपलब्ध होने वाला है, इसकी कीमत रुपये है। 14.75 लाख रुपए तक हो सकती है।

क्या गोरखा 6 सीटर है?

5-डोर फोर्स गोरखा को 6-सीटर लेआउट के साथ दूसरी और तीसरी दोनों पंक्तियों में कप्तान सीटों के साथ, 7-सीटर लेआउट के साथ 2 में बेंच और तीसरे में कप्तान सीटों के साथ नया मॉडल जल्द ही लांच हो जाएगा। और अंत में, तीसरी पंक्ति में जंप सीटों के साथ 9-सीटर होने की संभावना है।

क्या गोरखा एक फैमिली कार है?

यह गोरखा, उतना ही पारिवारिक टूरर का है, जितना कि सज्जन ऑफ-रोडर का लेकिन अब केवल वैरागी या विद्रोहियों के लिए आरक्षित नहीं है। यह अपनी बाहों और 5 दरवाजों को उन सभी के लिए खोल देता है जो इंडिकेटर्स इसकी सराहना कर सकते हैं कि यह वास्तव इसको अपडेट किया गया है।

इंडिकेटर्स

news-details

  • suryasamachar.com [Edited by: Santosh Kumar Singh]
  • 30-11-2022 20:31:12 PM

पटना: बिहार स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार का उद्देश्य महज़ विद्यालयों के वॉश (जल, स्वच्छता एवं साफ़सफ़ाई) मानकों में सुधार करना भर ही नहीं है, बल्कि इसके ज़रिए हर विद्यालय का एक समग्र आकलन करना है। इसके तहत बैगलेस शनिवार, मीना मंच, बाल संसद समेत अन्य गतिविधियों का नियमित एवं सक्रिय संचालन शामिल है। इस पुरस्कार से पेयजल एवं स्वच्छता को लेकर स्कूलों में परस्पर प्रतियोगिता की भावना को बल मिलने के साथ-साथ बच्चों और शिक्षकों में जागरूकता बढ़ाने में भी मदद मिलेगी। इस प्रक्रिया में विद्यालय शिक्षा समिति और विद्यालय प्रबंधन समिति की सहभागिता सुनिश्चित करने के प्रयास किए जाने चाहिए ताकि अच्छे परिणाम मिल सकें।

उक्त बातें शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव, दीपक कुमार सिंह ने बिहार शिक्षा परियोजना परिषद् एवं यूनिसेफ के संयुक्त तत्वावधान में ‘बिहार स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार 2022-23’ के संदर्भ में आयोजित राज्य स्तरीय उन्मुखीकरण कार्यशाला में कहीं।

इस एक दिवसीय कार्यशाला में राज्य के प्रत्येक जिले से तीन प्रतिनिधि – डीपीओ (जिला कार्यक्रम पदाधिकारी), एई (सहायक अभियंता) और एमआईएस समन्वयक शामिल हुए जिन्हें तकनीकी सत्रों के माध्यम से पुरस्कार के संशोधित संकेतकों और समग्र प्रक्रिया के बारे में विस्तार से प्रशिक्षण दिया गया। संबंधित जिले के अधिकारियों के साथ प्रत्येक जिले से लाइव अपडेट और प्रगति को साझा किया गया। इन प्रशिक्षित कर्मियों द्वारा जिला और प्रखंड स्तर पर वाश नोडल शिक्षकों एवं संबद्ध विभागीय कर्मियों को ट्रेनिंग दी जाएगी ताकि सभी स्कूल ससमय स्वनामांकन कर इसमें भाग ले सकें।

कार्यक्रम के दौरान दीपक कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव, शिक्षा विभाग, असंगबा चुबा आओ, राज्य परियोजना निदेशक, बीईपीसी, नफ़ीसा बिन्ते शफ़ीक़, राज्य प्रमुख, यूनिसेफ बिहार, सतीश चंद्र झा, निदेशक,मिड डे मील, मनोज कुमार, निदेशक, सेकेंडरी एजुकेशन, शिक्षा विभाग, रवि प्रकाश, निदेशक, प्राइमरी एजुकेशन, रवि शंकर सिंह, अतिरिक्त परियोजना निदेशक, बीईपीसी, भोला प्रसाद सिंह, सिविल वर्क्स मैनेजर, बीईपीसी, प्रभाकर सिन्हा, वॉश (WASH) विशेषज्ञ, सुधाकर रेड्डी, इंडिकेटर्स वॉश अधिकारी, यूनिसेफ बिहार, राणा सिंह, निदेशक, चन्द्रगुप्त प्रबंध संस्थान, पटना समेत बीईपीसी और यूनिसेफ के अधिकारी उपस्थित रहे।

बीईपीसी के राज्य परियोजना निदेशक असंगबा चुबा आओ ने कहा कि स्वनामांकन के समय डेटा एंट्री के दौरान बहुत सावधानी बरतने की ज़रूरत है ताकि आगे की प्रक्रिया सुगमता से पूरी की जा सके। इसके लिए विद्यालय स्तर पर डेटा भरने के लिए संबद्ध शिक्षकों को समुचित प्रशिक्षण सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

यूनिसेफ बिहार इंडिकेटर्स की राज्य प्रमुख नफ़ीसा बिन्ते शफ़ीक़ ने स्कूलों में हाइजीन एजुकेशन की महत्ता को रेखांकित करते हुए कहा कि स्वच्छता पुरस्कार की इस पूरी प्रक्रिया से शिक्षकों का क्षमता निर्माण किया जा सकेगा। साथ ही, वयस्कों की तुलना में बच्चे स्वच्छता संबंधी आदतों को ज़्यादा जल्दी अपनाते हैं। इस कारण वे परिवार व समुदाय के स्तर पर व्यवहार परिवर्तन सुनिश्चित करने में एक प्रभावी चेंज एजेंट की भूमिका निभाने में सक्षम हैं। स्कूल एक ऐसी संस्था है जहां बच्चों के सर्वांगीण विकास संभव है। इसे देखते हुए आने वाले समय में बिहार स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार के तहत वॉश मानदंडों के अलावा स्वास्थ्य, पोषण, सुरक्षा एवं आपदा जोखिम न्यूनीकरण मानदंडों को भी सम्मिलित किया जाना चाहिए। लड़कियों तथा लड़कों के लिए पृथक शौचालय एवं साफ़-सफाई सुविधाओं की उपलब्धता हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए।

विदित हो कि इसी साल मई महीने में बिहार स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार का अंतिम चरण पूरा किया गया है जिसके तहत 26 स्कूलों को राज्य स्तर पर सम्मानित किया गया। इस साल शिक्षा दिवस (11 नवंबर) के अवसर पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा बिहार स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार 2022-23 मार्गदर्शिका इंडिकेटर्स एवं वेब पोर्टल को लॉन्च किया गया है। इस साल पुरस्कार मानकों में थोड़ा-बहुत बदलाव करने के अलावा कुछ नए इंडिकेटर्स को भी जोड़ा गया है। इस बार राज्य स्तर पर कुल 33 स्कूलों को पुरस्कृत किया जाएगा जिनमें से 30 स्कूलों को सामान्य पुरस्कार श्रेणी व 3 स्कूलों को सामुदायिक सहभागिता मापदंड के आधार पर विशिष्ट पुरस्कार दिया जाएगा। साथ ही, हर ज़िले से 33 स्कूलों (30 सामान्य पुरस्कार श्रेणी एवं 3 सामुदायिक सहभागिता मापदंड पर आधारित) यानी कुल 1254 स्कूलों को पुरस्कार दिया जाएगा। 2021-22 में राज्य स्तर पर पुरस्कृत 26 विद्यालयों को ‘सस्टेनेबिलिटी अवार्ड श्रेणी’ के तहत पुरस्कृत किया जाएगा। तकनीकी सहयोग देने के अलावा बिहार स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार 2022-23 की प्रविष्टियों का स्वतंत्र भौतिक सत्यापन चन्द्रगुप्त प्रबंध संस्थान द्वारा किया जाएगा।

यूनिसेफ बिहार के वॉश विशेषज्ञ, प्रभाकर सिन्हा एवं वॉश अधिकारी, सुधाकर रेड्डी ने तकनीकी सत्र के दौरान स्कूलों में इंडिकेटर्स जल, स्वच्छता एवं साफसफाई की महता एवं बिहार विद्यालय स्वच्छता पुरस्कार के बारे में विस्तार से चर्चा की। साथ ही, बीएसवीपी इंडीकेटर्स, वेब पोर्टल के ज़रिए स्वनामांकन प्रक्रिया और मोबाइल ऐप्लिकेशन के बारे में भी जानकारी दी गई।

बीईपीसी के सिविल वर्क्स मैनेजर भोला प्रसाद सिंह ने मॉनिटरिंग प्रक्रिया के बारे बताया एवं धन्यवाद ज्ञापन किया।

रेटिंग: 4.40
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 449
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *